शनिवार, 29 जुलाई 2017

योग बनाम योगा



और एक बार फिर विक्रम बेताल को अपने कंधे पर लाद चुप रहने का निश्चय कर चल पड़ा | बेताल ने हमेशा की तरह समय बिताने के लिए बातों का सहारा लिया | उसने राजन से इस चेतावनी के साथ प्रश्न करने शुरू किये कि उत्तर जानते हुए भी राजन चुप रहे तो उनके सर के टुकड़े-टुकड़े हो जायेंगे | इस कालजयी धमकी के आगे राजन ने इस बार भी घुटने टेक दिए और कुछ इस प्रकार के प्रश्न और उत्तर निकल कर सामने आये |
बेताल ने पूछा कि बताओ राजन, योगा क्या है ?   
इतना सुनते ही राजन ने भुनभुना कर कहा कि पहले सवाल क्लियर कर लो | योग के बारे में जानना है या योगा के बारे में | वरना हम योग पर ज्ञान देते रहें और बाद में तुम ये कह कर निकल लो कि हमने तो योगा के बारे में पूछा था | तुम्हारे ज़रा से कन्फ्युशन में फालतू में हमारे सर के टुकड़े हो जायेंगे |
ये सुन कर बेताल सकपकाया कि योग और योगा अलग होते हैं क्या ? उसके इस सवाल पर राजन दिल खोल कर हँसे और बोले कर दी न बेतालों जैसी बात | योग क्या है इस पर हमारे ऋषि मुनियों ने प्राचीन काल से इतना कुछ कह रखा है कि नया कुछ बताने की जरुरत नहीं है | उसमे से कोई भी परिभाषा quote कर दूंगा तो भी काम हो जाएगा | लेकिन आम तौर आज जनता योग से क्या समझती है वह महत्वपूर्ण है | यूँ तो योग एक जीवन पद्धति है लेकिन अब जनता शरीर को विभिन्न आकार से तोड़-मरोड़ कर किये जाने वाले आसनों को ही योग मानती है | जो जितने अधिक और जितने विचित्र आसन कर सकता है वो उतना ही बड़ा योगी और योगाचार्य कहलाता है | शरीर को अधिक से अधिक तरीके से तोड़ मरोड़ सकना ही आजकल योग है | अब इस चक्कर में वो-वो आसन ईजाद हुए जा रहे हैं जो योग में शायद थे भी नहीं | इस प्रकार योग दिनोंदिन और अधिक समृद्ध हो रहा है |
ये सुन कर बेताल बोला कि ये तो योग हुआ अब योगा क्या होता है वो बताओ | विक्रम ने उत्तर दिया कि सरल शब्दों में कहा जाए तो अमीरों द्वारा किया जाने वाला योग योगा है | गरीब की झोंपड़ी से जब योग निकल कर अमीरों के महलों में पहुंचता है तो वह योगा बन जाता है | गरीब जमीन पर बिना कुछ बिछाए भी योग कर सकता है लेकिन योगा तो सिर्फ और सिर्फ इम्पोर्टेड योगा मैट पर ही किया जा सकता है | वो भी हर साल इंटरनेशनल योगा डे पर नई मैट होनी अत्यंत आवश्यक है | पिछले साल वाली मैट पर किया गया योगा फलदायक नहीं होता है | इस बार योगा डे पर बारिश हुई थी तो अगले साल से वाटरप्रूफ योगा मैट के टेंडर निकलेंगे | बड़े स्कूलों में सिखाया जाने वाला योग नहीं योगा होता है | और बड़ी हस्तियों के योगा टीचर की हैसियत उन हस्तियों से भी अधिक होती है |
बेताल इतने बारीक फर्क जान कर हैरान था | उसकी ऐसी हालत देख कर विक्रम ने कहा कि बस इतने में ही ये हाल है | यहाँ हर साल योगा का कोई नया प्रकार आ जाता है और उस के अनुसार लेटेस्ट योगा के हिसाब से अपडेट रहना बहुत जरुरी है वरना योगा से योग में डिमोशन होते भी देर नहीं लगती | रोप योगा, हॉट योगा, पॉवर योगा के बाद इस बार बीयर योगा की धूम है | इस से युवा भी योगा की ओर आकर्षित हो रहे हैं | रोप योगा में सर्कस की सुंदरियों की तरह रस्से से लटक कर योगा किया जाता है | कठिन होने के कारण ये अधिक पोपुलर नहीं हुआ | इसका स्थान हॉट योगा ने लिया |
ये सुन कर बेताल बोल पडा कि जैसे योग से योगा बना वैसे ही हठयोग से हॉट योगा बना, है न ? ये सुन कर राजा विक्रम ने उसे लगभग हड़काते हुए कहा, जब पता न हो तो हर बात में बीच में न बोला करो | बता तो रहे हैं | अब तुम्हारे बीच में टोकने से हम कुछ भूल गए तो हमारे ही सर के  टुकड़े होंगें | हॉट योगा शरीर को हॉट बनाने के लिए हॉट सुंदरियों की संगति में किया जाने वाला योगा है | इस से शरीर हॉट हो न हो, मन तो हॉट हो ही जाता है | साल दर साल हॉटनेस बढ़ते जाने के कारण कूल बनने के लिए पॉवर योगा आया | इसे सिनेमा की सुंदरियों ने अपनी सीडी लांच के जरिये प्रोमोट किया | सौन्दर्य के दीवानों ने इसे हाथोंहाथ लिया | इसे करने से औरों को चाहे लाभ न भी हुआ हो किन्तु उन सुंदरियों को विशेष लाभ हुआ | लेकिन जैसे ही उन सुंदरियों का कैरियर ढलान की ओर बढ़ा वैसे ही पॉवर योगा भी अस्त होने लगा | इसी कड़ी में फिलहाल बीयर योगा ने दस्तक दी है | युवा वर्ग इसके आने की आहट मात्र से ही प्रफुल्लित है | नशाबंदी के इस दौर में उसके लिए इस से बेहतर कुछ हो नहीं सकता |
बेताल ये सब सुन कर स्तब्ध था | राजन उसे इस हाल में देख कर थोड़े चिंतित हुए और पूछा कि क्या हुआ, अब किस सोच में डूबे हो ? बेताल राजन के कंधे से उतर कर पेड़ पर वापस जाते हुए बोला कि योग का योगा में परिवर्तन कर क्या हाल बना दिया है | बेताल ये कह कर पेड़ पर जा कर उलटा लटक गया | राजा को समझ नहीं आया कि वह उनके जवाबों से संतुष्ट हुआ या ट्री योगा करने लगा | वह इस बारे में बेताल से पूछ भी नहीं सकते थे क्योंकि सवाल करना तो  बेताल का काम है | विक्रम का काम तो सिर्फ जवाब देना है |
                                                       

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

योग बनाम योगा

और एक बार फिर विक्रम बेताल को अपने कंधे पर लाद चुप रहने का निश्चय कर चल पड़ा | बेताल ने हमेशा की तरह समय बिताने के लिए बातों का सहारा ल...